बागेश्वर धाम टोकन व्यवस्था निरस्त, अब प्रतिदिन लगेगा दिव्य दरबार और सामूहिक अर्जी महाराज ने की घोषणा

WhatsApp Group (Join Now) Join Now

Bageshwar Dham : बागेश्वर धाम टोकन व्यवस्था मैं बड़ा बदलाव किया गया हैं, अब धाम पर 2 से 3 माह के अंतराल में वितरित किए जाने वाले टोकन को निरस्त कर दिया गया है, आप बागेश्वर धाम पर टोकन वितरित नहीं किए जाएंगे, इसकी घोषणा महाराज धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री में एक वीडियो के जरिए की हैं, इससे पहले धाम पर टोकन वितरित किए जाते थे, और लॉटरी सिस्टम से टोकन निकले जाते थे, जिसका नाम आता था, उसे धाम पर होने वाले दिव्य दरबार में बुलाया जाता था।

बागेश्वर धाम नियमों मैं बदलाव

बागेश्वर धाम पर टोकन व्यवस्था को निरस्त कर दिया गया हैं, अब धाम पर टोकन नहीं वितरित किये जाएगे, महाराज धीरेन्द्र शास्त्री जी ने कहा मुझे ऐसी प्रेरणा मिली है, बागेश्वर बालाजी सरकार की ओर से कि धाम पर अब प्रितिदिन दिव्य दरबार लगाया जाएगा, और साथ ही सामूहिक अर्जी भी लगाई जाएगी, जिससे ज्यादा से ज्यादा लोग लाभान्वित हो सकें ।

इसे भी पढ़ेBageshwar Dham Mumbai : बागेश्वर धाम दिव्य दरबार मुंबई महाराष्ट्र पता, समय, डेट पूरी जानकरी

अब बागेश्वर धाम पर प्रति दिन दिव्य दरबार लगाया जाएगा

महाराज शास्त्री जी ने कहा अब बागेश्वर धाम पर प्रतिदिन दिव्य दरबार लगाया जाएगा और साथ मैं सामूहिक अर्जी भी लगाई जाएगी, जिससे बागेश्वर बालाजी की किरपा ज्यादा से ज्यादा लोगों को मिल सके, प्रति दिन दिव्य दरबार से मतलब जब महाराज धाम पर हो, तब बागेश्वर धाम दिव्य दरबार लगाया जयेगा जिसकी सूचना बागेश्वर धाम सोशल मीडिया एकाउंट्स या हमारी वेबसाइट से भी प्राप्त कर सकते हैं

इसे भी पढ़ेBageshwar Dham Contact Number 2023, बागेश्वर धाम का नया मोबाइल नंबर, बागेश्वर धाम सरकार न्यू कांटेक्ट नंबर ?

बागेश्वर धाम टोकन व्यवस्था क्या थी

जिन लोगों को बागेश्वर धाम टोकन व्यवस्था के बारे मैं नहीं पता हैं, तो मैं आपको बता दू बागेश्वर धाम टोकन धाम पर भीड़ को कंट्रोल करने का या जरिया था, धाम पर प्रितिदिन 40 से 50 हजार श्रद्धालु जाते हैं, सभी की अर्जी लग पाना संभव नहीं हैं, इस समस्या से निजात पाने के लिए बागेश्वर धाम टोकन व्यवस्था को लागु किया गया था, अब एक बार फिर पहले की तरह धाम पर बिना टोकन नंबर के प्रतिदिन दिव्य दरबार लगाया जाएगा

WhatsApp Group (Join Now) Join Now

Leave a Comment